सोमवार, 22 जून 2009

प्रेम में

प्रेम करते पुरुष के लहू में
चीखते हैं भेड़िये
उग आती हैं दाढ़ें
पंजे और नाखून
प्यार में पुरुष बेतरह गुर्राता है
हाँफता है  काँपता है
और शिथिल हो जाता है

प्रेम करने की कला
केवल स्त्री जानती है
वह बेसुध भीगती है
प्रेम की बारिश में
फिर कीलित कर देती है उस क्षण को
देखी है कभी ग्लेशियर से फूटती
पीन उज्ज्वल जल-धार

एक स्त्री ही गुदवा सकती है
अपने वक्षस्थल पर
अपने प्रेमी का नाम
नीले हरफ़ों में

2 टिप्‍पणियां:

  1. रब क्या कहूँ इतनी बेबाक भावमय आभिव्यक्ति के लिये बहुत बहुत बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  2. बढ़िया प्रयास |
    जरुरी नहीं आपके पिता जी इन्टरनेट पर आये | आप ही उनकी रचनाओं को इस माध्यम से जन-जन तक पहुँचाने का कार्य करते रहे |

    उत्तर देंहटाएं